हमारे बारे में

माल के भौगोलिक उपदर्शन को औद्योगिक सम्पदा के उस पक्ष के रूप में परिभाषित किया जाता है जो किसी देश या स्थान पर अवस्थित भौगोलिक उपदर्शन को उस देश या उदगम स्थल के एक उत्पाद के रूप में इंगित करता है। विशेषकर, वैसा एक नाम जो गुणवत्ता और विशिष्टता का वह आश्वासन देता है जो किसी निश्चित भौगोलिक स्थान, क्षेत्र या देश में उसका उदगम होने के तथ्य के कारण उसे अवश्य प्राप्त होता है। औद्योगिक सम्पदा की संरक्षा के लिए पेरिस कन्वेंशन की धारा 1 (2) और 10 के तहत भौगोलिक उपदर्शन को बौद्धिक सम्पदा अधिकार के एक घटक के रूप में शामिल किया गया है। वे बौद्धिक सम्पदा अधिकार (ट्रिप्स) समझौते, जो गैट संधिक्रम के उरुग्वे दौर के समापन समझौते का हिस्सा है, के व्यापार संबंधित पक्ष की धारा 22 से 24 के तहत भी शामिल है।

भारत ने, जो विश्व व्यापार संगठन (डबल्यूटीओ) का एक सदस्य है, माल के भौगोलिक उपदर्शन(रजिस्ट्रीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 का अधिनियमन किया है जो 15 सितम्बर 2003 से प्रभावी है।

Go to Navigation